विज्ञापनों की दुनिया - कनक गहलोत

कनक गहलोत
विज्ञापनों का कार्य है लोगों तक अपने उत्पाद की सूचना देना या उससे संबंधित जानकारी देना। सूचनाओं और जानकारियों के आधार पर ग्राहक अपने लिए उस वस्तु का चुनाव कर सकते हैं। उत्पाद से संबंधित यह जानकारी या सूचना विश्वसनीय होनी चाहिए। गलत जानकारी लोगों में भ्रम पैदा कर सकती हैं या एक तरह से ऐसा करना ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी भी है। परंतु यह दुर्भाग्य ही है कि वर्तमान समय में विज्ञापन केवल लाभ कमाने और अपने उत्पाद की अधिक से अधिक बिक्री करने तक ही सिमट कर रह गया है।

विज्ञापन का वास्तविक अर्थ ही लुप्त हो गया है। अधिक से अधिक ऐसे खर्च करके लुभावने विज्ञापन तैयार किए जाते हैं जिससे कि ग्राहकों को आकर्षित किया जा सके।बड़े बड़े अभिनेता या खिलाड़ियों द्वारा विज्ञापन करवाया जाता है। यह खिलाड़ी और अभिनेता बड़े रोचक ढंग से अपनी प्रस्तुति देते हैं ,अपने अभिनय और हाव-भाव से ग्राहकों को सम्मोहित करते हैं। फिर अगर कोई वस्तु उपयोगी ना हो तो भी उपयोगी लगने लगती है। आवश्यकता ना हो तब भी वह वस्तु खरीदी जाती है।

विज्ञापन महत्वपूर्ण है उत्पादक और उपभोक्ता दोनों के लिए। उत्पादक अपने उत्पाद की जानकारी प्रस्तुत करता है और उपभोक्ता उस जानकारी के आधार पर अपनी आवश्यकता पूर्ति करता है। आजकल प्रस्तुत किए जाने वाले विज्ञापनों में वास्तविक जानकारी नदारद रहती है। ऐसी परिस्थिति में उपभोक्ता को सतर्क रहने की आवश्यकता है। केवल लुभावने और आकर्षक विज्ञापन वस्तु खरीदने का आधार नहीं होना चाहिए। विज्ञापन में वस्तुओं के गुणों को बढ़ा चढ़ाकर दर्शाया जाता है तथा उसके मूल्य में भी वृद्धि कर दी जाती है। सावधान रहकर की हम विज्ञापनों के माया जाल से बच सकते हैं।

कनक गहलोत
कक्षा- X
द फैबइंडिया स्कूल

Comments

Popular Posts

Compassion - Rishona Chopra

Ikigai - Rishona Chopra

The Superficial Rosy-ness - Reveda Bhatt

Sing along with us!

The My Good School Weekly

Subscribe for the Weekly